पंजाब में यूनिक बुक बैंक योजना जल्द ही लॉन्च की जाएगी | Unique Book Banks Scheme in Punjab to be launched Soon

पंजाब सरकार ने पंजाब के लोगों के जीवन स्तर को सुधारने के लिए शानदार कदम उठाए हैं। पंजाब की नई सरकार के गठन के बाद से सरकार ने राज्य और राज्य के निवासियों के लाभ के लिए कई योजनाएं शुरू की हैं। समाज के प्रत्येक वर्ग के लिए सरकार प्रयास कर रही है। चाहे वह बूढ़े लोग हों, महिलाएं, वयस्क या युवा हो, हर व्यक्ति को एक या दूसरी योजना से लाभ होता है। गरीबी रेखा से नीचे के गरीब लोगों को भी विभिन्न क्षेत्रों में वित्तीय सहायता दी जा रही है।

पंजाब की राज्य सरकार ने आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए एक नई योजना शुरू करने जा रही है। योजना का नाम “यूनिक बुक बैंक योजना” है यह एक ऐसी योजना है, जो उन छात्रों की मदद करना शुरू कर रही है जो अपनी उच्चतर पढ़ाई के लिए किताबें खरीदने में सक्षम नहीं हैं। यह एक कड़वा सच्च है कि हमारे देश में अभी भी बहुत बड़ी आबादी है जो इस तरह से वित्तीय कमजोर है कि वे अपने लिए 2 बार के भोजन का खर्च नहीं उठा पा रहे हैं। यूनिक बुक बैंक योजना ऐसे ही जरूरतमंद छात्रों की मदद करने के लिए शुरू की जा रही है। इस योजना के अंतर्गत जरूरतमंद छात्रों को मुफ्त में पुस्तकें प्रदान की जाएंगी।

यूनिक बुक बैंक योजना इस प्रकार तैयार की गयी है कि पंजाब राज्य के सभी स्कूलों में, यूनिक बुक बैंक खोले जाएंगे। इन यूनिक बुक बैंक में किताबें वित्तीय रूप से गरीब छात्रों के लिए मुहैया कराई जाएगी। पुराने छात्रों या पास हो चुके छात्रों को इन यूनिक बुक बैंक में अपनी किताब जमा करने का अनुरोध किया जाएगा। फिर उनके द्वारा जमा की गई पुस्तकों को गरीब छात्रों के लिए उन्हें वितरित करके फिर से इस्तेमाल किया जाएगा। छात्रों को अपनी पुरानी पुस्तकों को बुक बैंक में जमा करने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा। लेकिन पास हो चुके छात्रों की स्वयं की इच्छा है की चाहे वे यूनिक बुक बैंक में पुरानी पुस्तकों को जमा करें या नहीं। पास हो चुके छात्रों द्वारा पुस्तकों की जमा राशि अगले बैच द्वारा नि:शुल्क में इस्तेमाल किया जा सकता है।

यूनिक बुक बैंक योजना केवल गरीब छात्रों को ही लाभ नहीं देती बल्कि पर्यावरण पर भी सकारात्मक प्रभाव भी डालती है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हर साल छात्र नई किताबें खरीदते हैं। जिसके लिए बड़ी मात्रा में कागज की जरूरत होती है और जिसमें अन्य मुद्रण खर्च आदि भी शामिल हैं। एक साल बाद कागज और किताबें व्यर्थ हो जाती हैं। तो इस योजना के माध्यम से धन भी बचाया जाएगा और प्रिंटिंग के लिए उपयोग किया गया समय भी बचेगा।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि पर्यावरण को नुकसान कम होगा। एनजीओ जो इस तरह की योजनाओं को चला रहे हैं, वे भी इस योजना में अपना योगदान जोड़ेंगे। इस प्रकार, संक्षेप में हम यह कह सकते हैं कि यह योजना पर्यावरण को बेहतर बनाने में मदद करेगी और लोगों के अनावश्यक पैसे भी बचाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *