कर्नाटक में उज्ज्वला योजना – कर्णाटक में अनिला भाग्य योजना दो सप्ताह में शुरू

कर्नाटक में उज्ज्वला योजना शुरू करने की भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार की योजना के बन्द होने के बाद, राज्य सरकार ने अपना खुद का कार्यक्रम शुरू करने का फैसला किया है जो कि बीपीएल कार्ड धारकों- अनिल भाग्य योजना से 15 दिनों में मुफ्त गैस कनेक्शन प्रदान करता है।

यह योजना हैदराबाद-कर्नाटक पिछड़े जिलों के क्षेत्रों में से एक में शुरू की जाएगी। केंद्र और राज्य पिछले छह महीनों में इस योजना के नामकरण के अधिकारों के लिये आपस में खिचातानी हो रही थी पहले दावा किया गया था कि सभी मुफ्त एलपीजी कनेक्शन उज्ज्वला के तहत दिए जाएंगे।

प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना (PMUY) के लिए लाभार्थियों को सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना (SECC) 2011 के आंकड़ों से चुना जाता है। राज्य सरकार की एक समानांतर योजना 2017-18 के बजट में मुख्यमंत्री सिद्धारमैया द्वारा शुरू की गई, जिसमें यह वादा किया गया था कि उज्ज्वला के तहत कवर नहीं किए गए सभी बीपीएल कार्ड धारकों को अनिल भाग्य के तहत एक मुफ्त गैस कनेक्शन मिलेगा।

कर्नाटक में उज्ज्वला योजना में देरी के कारण केंद्र का लाभ उठाते हुए और केंद्र की योजना से अलग होने पर कांग्रेस सरकार सभी बीपीएल परिवारों को अनिल भाग्य का लाभ उठाने का अवसर दे रही है। इसका अर्थ है कि लगभग 1 करोड़ बीपीएल परिवार, चाहे उज्ज्वला स्कीम के लिए पात्र हों या नहीं, उन्हें मुफ्त में एलपीजी कनेक्शन मिलेगा।

अतिरिक्त गैस स्टोव, जो उज्ज्वला के तहत उपलब्ध नहीं है, अनिल भाग्य को बीपीएल कार्ड धारक परिवारों के लिए भी अधिक आकर्षक बनाती है।

हमने योजना संशोधित की है।

हमने स्वयं को केंद्र की योजना से अलग कर दिया है और इसे अनिला भाग्य योजना को संशोधित करके सभी बीपीएल परिवारों के लिए उपलब्ध कराया है। अब, हमें अनिल भाग्य योजना को लॉन्च करने के लिए केंद्र सरकार की अनुमति का इंतजार करने की आवश्यकता नहीं है ।

हर्ष गुप्ता, मुख्य सचिव (प्रभारी), खाद्य और नागरिक आपूर्ति विभाग

सरकारी खजाने पर बोझ

हालांकि इस योजना का विस्तार सरकार को राजनीतिक पूंजी प्राप्त करने में मदद करेगा। लेकिन इससे राज्य के राजकोष पर भारी बोझ पड़ेगा। राज्य को 550 करोड़ रुपये की जमा राशि बैंकों को लौटा रहा है, जिसे 3.5 लाख लीटर केरोसिन के आत्मसमर्पण के लिए सौंप दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *