माझी कन्या भाग्यश्री योजना – के बारे में नया प्रावधान पढ़ें

माझी कन्या भाग्यश्री योजना महाराष्ट्र की राज्य सरकार ने माझी कन्या भाग्यश्री योजना के संशोधित नीति को स्वीकृति प्रदान कर दी है। पॉलिसी के अनुसार जिन परिवारों की वार्षिक आय 7.5 लाख रुपये तक है। वे इस योजना के तहत लाभ उठाने में सक्षम होंगे।

यह योजना 1 अप्रैल 2016 को सुकन्या योजना के स्थान पर शुरू हुई थी। इस योजना का मुख्य उद्देश्य बालिकाओं के विषम अनुपात में सुधार, लिंग निर्धारण और कन्या भ्रूण हत्या को रोकना, और महिला शिक्षा का समर्थन करना है।

पहले प्रावधानों के अनुसार गरीबी रेखा से नीचे के परिवार (बीपीएल) जिनकी वार्षिक आय एक लाख रुपये तक थी। माझी कन्या भाग्यश्री योजना के पात्र थे।

नए प्रावधानों के अनुसार,7.5 लाख रुपये तक की वार्षिक आय वाले परिवारों की लड़कियां भी इस योजना के तहत पात्र हैं।

नए प्रावधानों के अनुसार पहली बालिका जन्म के बाद अगर माता या पिता किसी ने भी परिवार नियोजन अपनाया हो या आपरेशन करवाया हो, तो सरकार द्वारा 50,000 रुपये की राशि बैंक में बालिका के नाम पर जमा की जाएगी।

इसके अलावा, अगर किसी भी माता-पिता ने अगर दूसरी लड़की के जन्म के बाद परिवार नियोजन अपनाया है, तो दोनों लड़कियों के नाम पर 25,000-25,000 रुपये की राशी जमा की जाएगी।

लाभार्थी बालिका को दो बार ब्याज का पैसा मिलेगा – एक बार जब वह 6 साल की उम्र में पहुंचेगी और दूसरी क़िस्त जब वह 12  साल की होने पर प्राप्त कर सकेगी।

लड़की की उम्र जब 18 साल होगी तो वह लड़की पूरी राशी प्राप्त करने की हक़दार होगी बशर्ते लड़की ने 10 वीं कक्षा तक की अपनी पढ़ाई पूरी की हो और अविवाहित हो।

अगर किसी व्यक्ति की दो लड़कियां हैं तो वह इस योजना के तहत लाभ प्राप्त कर सकता है। लेकिन अगर तीसरा बच्चा हो जाता है तो पहले से जन्मीं दोनों लड़कियों को भी इस योजना का लाभ नहीं मिल पाएगा।

Source: https://www.governmentschemesindia.in/read-new-provision-about-majhi-kanya-bhagyashree-scheme/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *