बिजली सब्सिडी योजना दिल्ली | Power subsidy scheme Delhi

दिल्ली में बिजली सब्सिडी योजना जारी

सरकार ने बुधवार को एक और वित्तीय वर्ष के लिए 1600 करोड़ रुपये की फ्लैगशिप बिजली सब्सिडी योजना को शुरू करने का फैसला किया है। वर्तमान में, 400 यूनिट तक उपभोक्ताओं को अपने बिलों पर 50% सब्सिडी मिलती है।

इसके अलावा, ऊर्जा क्षेत्र के लिए 2194 करोड़ रुपये का आवंटन दिल्ली में सौर ऊर्जा उत्पादन लक्ष्य को हासिल करने के लिए केंद्रित किया गया है। घरेलू सौर ऊर्जा जनरेटर को प्रोत्साहन प्रदान करना  और तीन अपशिष्ट-से-ऊर्जा संयंत्रों का विकास करना है। इनमें से अधिकांश प्रस्ताव पहले घोषित किए गए थे।

दिल्ली में एक बड़ा क्षेत्र होने के कारण रूफटॉप सौर ऊर्जा इकाइयों के विकास के लिए एक विशाल कार्यक्रम शुरू किया गया है। अगले पांच सालों में 1,000 मेगावाट सौर फोटोवोल्टिक स्थापना के लिए लक्ष्य रखा गया है और 2025 तक 2,000 मेगावॉट के लक्ष्य को पूरा करने की उम्मीद की जा रही है। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा की सभी सरकारी भवनों पर जिनका क्षेत्रफल 500 वर्ग मीटर से अधिक हो उन पर एक सौर ऊर्जा इकाई स्थापित की जाएगी। घरेलू उपभोक्ताओं को सरकार 2/kw के सौर ऊर्जा संयंत्र की स्थापना के प्रति प्रोत्साहन भी प्रदान करेगी।

बजट भाषण में सिसोदिया ने ओखला, गाजीपुर और बवाना में तीन अपशिष्ट-से-ऊर्जा संयंत्रों को शुरू करने की मंजूरी देने के बारे में बताया। दिल्ली सरकार ने नगर निगम के कचरे के निपटान की समस्या से उबरने के लिए 52 मेगावाट क्षमता की कुल क्षमता वाले तीन अपशिष्ट-से-ऊर्जा संयंत्रों को मंजूरी दी है। ओखला में 16 मेगावाट का संयंत्र पहले से ही काम कर रहा है, जो कि भारत की सबसे बड़ी एकीकृत अपशिष्ट प्रबंधन परियोजना है। हर दिन 2,000 टन कचरे से बिजली बनाई जा रही है।

बिजली सब्सिडी योजना AAP का फोकस क्षेत्र रहा है।इससे दिल्ली में 36 लाख से अधिक परिवारों को कवर करने की उम्मीद है। आर्थिक सर्वेक्षण के अनुसार दिल्ली में 52.62 लाख उपभोक्ता हैं और बिजली की खपत में 3.4% की वृद्धि दर्ज की गई है, जिससे 2015-16 में 33,615 मिलियन यूनिट्स की आपूर्ति बढ़ गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *