बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के तहत धोखाधड़ी के बारे में सावधान | Beware about fraud under Beti Bachao Beti Padhao scheme

केंद्र ने 2015 में लड़कियों के लिंग अनुपात में तेज गिरावट से खतरे में पड़ गए100 जिलों में बाल लिंग अनुपात के मुद्दे में सुधार लाने के लिए बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना (बीबीबीपी) कार्यक्रम को शुरू किया था। लड़कियों के जीवन की रक्षा, संरक्षण और शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए समन्वित और संमिलित प्रयासों की आवश्यकता है।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के तहत धोखाधड़ी

उत्तर प्रदेश सरकार ने एक घोटाला के खिलाफ एक राज्यवार चेतावनी जारी की है, जिसमें केंद्र सरकार की बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के नाम पर लोगों से 5 से 50 रुपये तक लेकर बदले में लड़कियों के माता-पिता को 1 लाख रुपये नकद सहायता देने का वादा किया गया है। ।

हजारों लोग पहले से ही बेटी बचाओ-बेटी पढाओ योजना के तहत लाभ का वादा करने वाले घोटाले में फंस गए हैं, जो यूपी, हरियाणा, उत्तराखंड और बिहार में लड़की के लैंगिक असंतुलन और भेदभाव को समाप्त करने शुरू की गयी है।

सूत्रों ने बताया कि एक ही पृष्ठ पर “दिशानिर्देश” मुद्रित किया गया है नकली आवेदन पत्र में बताया गया है कि 8 से 32 वर्ष के बीच की आयु की लड़कियां और महिलाएं, महिला और बाल विकास मंत्रालय (डब्ल्यूसीडी) को अपना आवेदन प्रस्तुत करने के लिए पात्र हैं।

राज्य महिला और बाल कल्याण विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सभी जिला मजिस्ट्रेटों और वरिष्ठ पुलिस अफसरों को पत्र लिखा है कि वे केंद्रीय मंत्रालय द्वारा सतर्क होने के बाद घोटाले की जांच करने के निर्देश दे रहे हैं।

महिलाओं और बाल कल्याण विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी रेणुका कुमार द्वारा लिखित पत्र में चेतावनी दी गई है कि कुछ व्यक्ति बेटी  बचाओ बेटी पढाओ योजना के नकली पंजीकरण फॉर्म वितरित कर रहे हैं, जो माता-पिता को गलत तरीके से बताते हैं कि फॉर्म उन्हें भरने पर उन्हें1 लाख रुपए का लाभ होगा और प्रत्येक लाभ का हकदार देगा और यह कि जब लड़की 18 साल की जाएगी, तो उनके खाते में पैसा जमा होगा।

यह स्वीकार किया जाता है कि इस तरह के नकली और अवैध रूप से भरे हुए सैकड़ों फार्म राज्यों के विभिन्न जिलों से Union WCD ministry और साथ ही यूपी के महिला और बाल कल्याण विभाग तक पहुंच गए हैं।

कुमार ने कहा कि गिरोह इस योजना के मुताबिक लोगों को आकर्षक दावा करता है कि 1-2 लाख रुपये इस योजना के तहत आपके खाते में जमा किए जाएंगे, यदि वे इस विशेष फॉर्म को भरते हैं, जिसके लिए वे 50 रुपये या उससे ज्यादा शुल्क लेते हैं, तो इस तथ्य के बावजूद लोग धोखाधड़ी के शिकार हो रहे हैं कि इस योजना के तहत नकदी देने के लिए इस तरह का कोई प्रावधान नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *